How Hackers Attack On Your Data? In Hindi - HindiProHelp

How Hackers Attack On Your Data? In Hindi

दोस्तों आजकल के digital data thieves आपके confidential business और Digital Data को आराम से Creative Hacking Attacks द्वारा Access कर सकते हैं।हमारी पिछली पोस्ट में हमने आपको 5 Best Hacking Apps के बारे में जानकारी दी थी।और आज की इस पोस्ट में हम आपको उन Popular Ways के बारे में बताएंगे जिससे Hackers आपके Data पर Attack करते हैं।और इसके साथ ही हम आपको इन Hacking Attacks से बचने का भी उपाय बताएंगे।आज के हमारे इस Post का टॉपिक हैं  “How Hackers Attack On Your Data? In Hindi”.

 

5 Common Ways Used By Hackers To Attack On Your Data

 

Hackers Attacks
Hacking Techniques

 

1.Phishing Scams

Email phishing सबसे पुरानी, ​​और सबसे सफल, web hacking techniques में से एक है।Hackers बड़े पैमाने पर Scam Email भेजकर, जो की आपको बैंक, subscription service या online payment site के बिलकुल same लगते हैं। Email Recievers को एक Particular Link पर क्लिक करके उनकी खाता जानकारी को verify करने के लिए कहता है। एक बार लोग लिंक पर क्लिक करते हैं और अपनी लॉगिन जानकारी प्रदान करते हैं, तो Hackers अकाउंट से पैसों को Cashout करने में Able होते हैं।
कभी कभी तो Hackers आपको सलाह देंगे कि आपका Account हैक कर लिया गया है और फिर आपसे Directly Account Information देने को बोलते हैं।
एक सर्वे में यह बात सामने आयी है की- आमतौर पर Daily 0.5% लोग phishing scam का शिकार होते हैं।

मतलब की अगर Hackers 10,000 Peoples को target कर रहे हैं तो उनमें से 50 से ज्यादा लोग Phishing Scam का शिकार हो जाते हैं।

Example

मान लीजिए अगर आपको कोई ईमेल प्राप्त होता है कि आप के फलाँ अकाउंट का खाता Deactivate कर दिया गया है और इस लिंक पर क्लिक करके अपने Account में Login कीजिए।उसके बाद आपका Account active हो जायेगा।जब आप उस लिंक पर Click करके login करेंगे तो Login Informations, सीधा Hackers के पास पहुच जाती हैं।

और फिर वो आपके Information का use करके आपके Account को Access कर लेते हैं।

Phishing Scams से कैसे बचें?

वैसे तो इसका कोई तोड़ नही है लेकिन अगर आप कुछ बातों का ध्यान रखें तो आप Phishing Scams से बच सकते हैं।
*किसी भी unknown email की link पर क्लिक करने से पहले उसको ध्यान पूर्वक देख लें कि कहि Url में किसी प्रकार की Alphabetical mistake तो नही हैं।Because Scammers इन्ही गलतियों से आपको फंसाते हैं।

  • अगर आपको किसी Particular Account के बंद होने का Email मिल रहा है तो दिए गए link पर क्लिक करने से अच्छा है कि सम्बंधित अकाउंट में डायरेक्ट login करें।
  • अगर आप किसी institution के मालिक है तो बेहतर होगा कि आप अपने Employees को इस तरह के Hacking Attacks के बारे में जानकारी देने के साथ साथ , उन्हें ऐसे attacks से बचने की Training भी दें।

2.Password Hacking

ये दूसरा सबसे आसान तरीका है जिसके द्वारा Hackers आपके Devices को हैक करते हैं।Internet पर ऐसी कई Websites हैं जो Wi-Fi Router के विभिन्न मॉडलों के लिए Default Username और Passwords उपलब्ध कराती हैं, इसलिए यह केवल आपकी कंपनी द्वारा उपयोग की जाने वाली Router को खोजने की कोशिश करने वाले hackers को सुविधा उपलब्ध कराती हैं।और फिर Hackers आपके Router को access करने के लिए उन Default Usernames और Passwors का सहारा लेते हैं।

Password Hacking से कैसे बचें?

  • आपके Computer, modem या Wi-Fi router के साथ आने वाले पासवर्ड को  आपको बदल देना चाहिए। और कभी भी overly simple passwords का उपयोग का उपयोग नही करना चाहिए। ऐसे आप इस प्रकार की हैकिंग को रोक सकते हैं।
  • हमेशा आपको एक Strong Password का use करना चाहिए।एक strong password में आपको Alphabets, Numericals और Symbols का use करना चाहिए।
  • इसके अलावा आपको Banking या फिर Wallet sites के लिए एक password manager का उपयोग करना चाहिए।

3.Keylogger

Keylogger एक साधारण सॉफ़्टवेयर है जो आपके मशीन पर एक log file में key sequence के स्ट्रोक रिकॉर्ड करता है। ये लॉग फ़ाइलों में आपके व्यक्तिगत ईमेल आईडी और पासवर्ड भी शामिल हो सकते हैं। इन्हें keyboard capturing के रूप में भी जाना जाता है। Keyloggers या तो सॉफ्टवेयर या हार्डवेयर हो सकता है जबकि software-based keyloggers एक कंप्यूटर पर स्थापित प्रोग्रामों को Target करते हैं। keyloggers आमतौर पर keyboards, electromagnetic emissions, smartphone sensors, आदि को target करते हैं।

Keylogger ही उन मुख्य कारणों में से एक है,जिसके कारण online banking sites आपको अपने virtual keyboards का उपयोग करने का एक विकल्प देती है। इसलिए, जब भी आप किसी कंप्यूटर को public setting में operate कर रहे हैं, तो सावधानी बरतने की कोशिश करें।

Keylogging से कैसे बचें?

  • *Keylogging से बचने के लिए आपको अपने Computer में एक Firewall का उपयोग करना चाहिए।Because, Firewall आपके Computer की हर activity पर नज़र रखता है , और Keyloggers ko Data भेजने से रोकता है।
    *आपको एक Password Manager का use करना चाहिए, क्योंकि password manager आपके Account में Passwords को auto fill कर देते हैं।और keyloggers उनको ट्रैक नही कर पाते हैं।
    *Sensitive Informations टाइप करने के लिए आपको हमेशा On-Screen KeyBoards का Use करना चाहिए ।

क्योंकि Keyloggers On-Screen Clicks को कैप्चर नही कर पाते हैं।

 

4.Virus, Trojan,SpyWares

Virus या trojans वे malicious software programs हैं जो victim के सिस्टम में Install हो जाते हैं और victim के डेटा को Hackers को भेजते रहते हैं। वे आपकी Files को लॉक कर सकते हैं, fraud advertisement दिखा सकते हैं,traffic ko divert कर सकते हैं , आपके डेटा को sniff कर सकते हैं या आपके नेटवर्क से जुड़े सभी कंप्यूटर पर फैल सकते हैं।

Trojan Viruses से कैसे बचें?

  • अपने System में एक Firewall install करके रखें।
  • अपने Computer में Anti-Viruses का Use करें क्योंकि Anti-Virus Programs आपके System को Virus Attacks से बचाते हैं।

    Best AV Program

     

  • 1.Comodo Antivirus
  • 2.AVAST Free Antivirus
  • 3.AVG Free Antivirus
  • 4.Norton Free Antivirus
  • *अपने System को SpyWares से बचाने के लिए आपको एक Anti-Spyware Software अपने Computer में Install करना चाहिए।
  • *आपको Atleast 8 Characters का Complex और Secure Passwords का Use करना चाहिए।
  • *आपको Unsecured साइट्स से कभी भी कोई Software नही Download करना चाहिए।

5.Denial of Service (DoS\DDoS)

Denial of Service attack एक ऐसी Web Hacking Techniques है जिसमे हैकर किसी Website या Server को Crash करने के लिए,एक साथ बहुत ज्यादा traffic flood कर दिया जाता हैं , जिससे server , सभी  requests को real time में process नही कर पाता है और अंत में Crash या Down हो जाती हैं।
इस पॉपुलर तकनीक में हैकर्स targeted machines को Floods कर देते हैं,और फिर server, actual requests को handle नही कर पाता हैं।और finally down हो जाता है।

अपने Site/server को DoS\DDoS attacks से कैसे बचाये?

वैसे तो DoS\DDoS attacks से network को पूर्णता defend करने का कोई तरीका नहीं हैं,क्योंकि malicious request या legitimate request में फर्क करना आसान नही हैं क्योंकि वे same, protocols/ports का उपयोग करती हैं।लेकिन फिर भी कुछ steps अपनाकर आप इन्हें कम कर सकते हैं।

  • बहुत ज्यादा bandwidth buy कीजिये ,लेकिन ये बहुत खर्चालू हो सकता हैं।
  • अगर आप किसी enterprise के owner है तो आप को DoS attack identification और Detection तकनीक का use करना चाहिए।

तो दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आयी होगी।अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो एक शेयर तो बनता हैं , इसलिए कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।  ऐसे ही उपयोगी जानकारियों के लिए हमारे ब्लॉग HindiProHelp को सब्सक्राइब करना ना भूले। अपने मूल्यवान विचार कॉमेंट में जरूर व्यक्त करें।

 

loading...

You May Also Like

About the Author: Prashant Rathore

Prashant Rathore Piyu Is A 20 Years Old Student And A Part Time Blogger. He's An Expert In Python Language. Currently He's Learning More About SEO And Web Designing.

9 Comments

  1. जहां तक मेरी जानकारी है , इसके अलावा भी कई तरीके है जिससे हैकर्स आपके डाटा पर अटैक करते लेकिन आपने सिर्फ 5 ही बताया है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *